Khoon ke Aansu Surender Mohan Pathak

ISBN:

Published: 1995

Paperback

240 pages


Description

Khoon ke Aansu  by  Surender Mohan Pathak

Khoon ke Aansu by Surender Mohan Pathak
1995 | Paperback | PDF, EPUB, FB2, DjVu, audiobook, mp3, RTF | 240 pages | ISBN: | 3.38 Mb

अपने काले, अंधेरे अतीत से आंखें लड़ाने के बाद विमल ने पाया कि वो एक सुदृढ़, सुसंगठित आर्गेनाईजेशन को अपना दुश्मन बना बैठा था । और फिर शुरु हुई एक ऐसी जद्दोजहद जिसने पूरी बम्बई को हिला दिया । हिंदी क्राइम फिक्शन की ‘शोले’ समझी जाने वाली महागाथा का तीसरा और अंतिम अध्याय ।



Enter the sum





Related Archive Books



Related Books


Comments

Comments for "Khoon ke Aansu":


box4art.pl

©2013-2015 | DMCA | Contact us